प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: राशि भुगतान में छत्तीसगढ़ पूरे देश में अव्वल

रायपुर. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत किसानों को खरीफ मौसम 2017 के बीमा दावांे के भुगतान के मामले में छत्तीसगढ़ पूरे देश में अव्वल आया है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इसके लिए कृषि विभाग और संबंधित जिलों के अधिकारियों की सक्रियता की तारीफ की है। उन्होंने प्रभावित जिलों के कलेक्टरों को संबंधित बीमा कंपनियों और बैंकों से समन्वय कर बीमा दावा भुगतान तेजी से पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं।
कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने  आज यहां बताया कि पिछले वर्ष 2017 में खरीफ के दौरान अल्पवर्षा की वजह से 21 जिलों की 96 तहसीलों को सूखाग्रस्त घोषित किया गया था। प्रभावित जिलों के किसानों ने   खरीफ 2017 के लिए लगभग 128 करोड़ रूपए का प्रीमियम दिया था। उसके एवज में 5 लाख 68 हजार 549 किसानों को एक हजार 294 करोड़ 40 लाख रूपए का भुगतान किया जा रहा है। अब तक इनमें से पांच लाख 22 हजार 12 किसानों को एक हजार 201 करोड़ 51 लाख रूपए के बीमा दावे का भुगतान कर दिया गया है। इस प्रकार बीमा दावे की 93 प्रतिशत राशि किसानों के बैंक खातों में ऑनलाइन जमा कर दी गई है। शेष 42 हजार 203 किसानों को 92 करोड़ 89 लाख रूपए के बीमा दावे के भुगतान के लिए कार्रवाई तेजी से चल रही है।    कृषि मंत्री श्री अग्रवाल ने बताया कि सबसे अधिक राजनांदगांव जिले के किसानों को बीमा दावे का भुगतान किया गया है। इस जिले के एक लाख 51 हजार 706 किसानों को 466 करोड़ 10 लाख रूपए का भुगतान किया जा रहा है। अब तक  इनमें से एक लाख 43 हजार 185 किसानों के खातों में 438 करोड़ 72 लाख 20 हजार रूपए की बीमा दावा राशि जमा करा दी गई है। बचे हुए आठ हजार 521 किसानों को 27 करोड़ 37 लाख 80 हजार रूपए के बीमा दावे की प्रक्रिया जारी है।
श्री अग्रवाल ने बताया कि अब तक बलौदाबाजार जिले के 54 हजार 559 किसानों को 122 करोड़ 93 लाख रूपए, बीजापुर जिले के एक हजार 545 किसानों को लगभग दो करोड़ रूपए, बिलासपुर जिले के 30 हजार 531 किसानों को 69 करोड़ 67 लाख रूपए, दंतेवाड़ा जिले के दो हजार 208 किसानों को छह करोड़ 22 लाख रूपए, धमतरी जिले के 18 हजार 256 किसानों को 23 करोड़ 22 लाख रूपए, दुर्ग जिले के 28 हजार 846 किसानों को 56 करोड़ 64 लाख रूपए, गरियाबंद जिले के 15 हजार 586 किसानों को 20 करोड़ 97 लाख रूपए, जांजगीर-चाम्पा जिले के सात हजार 867 किसानों को नौ करोड़ 42 लाख रूपए, बस्तर जिले के 196 किसानों को छह लाख 80 हजार रूपए, कबीरधाम जिले के 15 हजार 481 किसानों को 26 करोड़ 36 लाख रूपए, कोण्डागांव जिले के तीन हजार 697 किसानों को पांच करोड़ 77 लाख रूपए, कोरिया जिले के एक हजार 250 किसानों को एक करोड़ 10 लाख रूपए, महासमुंद जिले के 38 हजार 949 किसानों को 93 करोड़ 66 लाख रूपए तथा रायगढ़ जिले के 11 हजार 821 किसानों को 20 करोड़ 25 लाख रूपए के बीमा दावे का भुगतान किया जा चुका है।
इसी प्रकार रायपुर जिले के 22 हजार 202 किसानों को 41 करोड़ 32 लाख रूपए, सरगुजा जिले के 45 किसानों को 70 हजार रूपए, कांकेर जिले के 23 हजार 987 किसानों को 54 करोड़ 10 लाख रूपए, बालोद जिले के 18 हजार 134 किसानों को 23 करोड़  64 लाख रूपए, बेमेतरा जिले के 72 हजार 432 किसानों को 160 करोड़ 47 लाख रूपए, कोरबा जिले के एक हजार 495 किसानों को तीन करोड़ 50 लाख रूपए, मुंगेली जिले के आठ हजार 479 किसानों को 19 करोड़ 97 लाख रूपए, सुकमा जिले के 472 किसानों को 98 लाख रूपए तथा सूरजपुर जिले के 195 किसानों को 48 लाख रूपए के फसल बीमा दावे का भुगतान हो गया है।

Leave a Comment