Home Political Samachar ये हैं सबसे डैशिंग बाहुबली, जिसके घर में लगता था कोर्ट, सुनाते...

ये हैं सबसे डैशिंग बाहुबली, जिसके घर में लगता था कोर्ट, सुनाते थे फैसला

पटना. देश में कोरोना वायरस ( Coronavirus ) का खौफ लगातार बढ़ता जा रहा है। रोजाना कोई न कोई शख्स इस खतरनाक वायरस का शिकार बन रहा है। इसी कड़ी में बिहार के सिवान जिले के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन ( Mohammad Shahabuddin ) का नाम भी जुड़ गया। बिहार के सीवान के पूर्व बाहुबली सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोरोना से शनिवार 1 मई को निधन हो गया। दिल्ली की तिहाड़ जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे राजद नेता शहाबुद्दीन का दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था।

Mohammad Shahabuddin

बिहार के सीवान को भारत के पहले राष्‍ट्रपति डॉ.राजेन्‍द्र प्रसाद का शहर कहा जाता है, लेकिन इसके साथ ही सीवान के पूर्व सांसद और बाहुबली मो. शहाबुद्दीन को कौन नहीं जानता। भारत के सबसे दबंग सांसदों में एक, भारत के सबसे मोस्‍ट वांटेड अपराधियों की सूची में शामिल और राष्‍ट्रीय जनता दल के ये पूर्व सांसद वर्तमान में कई तर‍ह के आरोपों में जेल में बंद हैं। बिहार के सीवान के पूर्व बाहुबली सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन का कोरोना से शनिवार 1 मई को निधन हो गया। इसी कड़ी में हम आज आपको बता रहा है, सबसे डैशिंग डॉन शहाबुद्दीन की पूरी कहानी।

बिहार में सीवान के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन आतंक का दूसरा नाम हुआ करते थे। लोग इनके डर से कांपते थे। फिलहाल वो जेल में बंद हैं। जेल में बंद होने बावजूद उनका खौफ लोगों पर भारी है और आज भी उनकी पहचान साहब की बनी हुई है। बीते करीब 27 सालों से ऐसा ही चल रहा है। बिहार के डॉन मोहम्मद शहाबुद्दीन अर्थात साहब का जलवा ऐसा ही था। सीवान में आज भी लोग नाम लेकर नहीं पुकारते। बिहार के लोग शहाबुद्दीन को सबसे खूबसूरत, स्मार्ट और डैशिंग डॉन कहते हैं।

शहाबुद्दीन का जन्म बिहार के सीवान जिले के प्रतापपुर में 10 मई 1967 को हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा पहले प्रतापपुर से फिर सीवान से हुई। उन्‍होंने सीवान के डीएवी कॉलेज से स्‍नातक के पश्‍चात राजनीति शास्‍त्र में एमए की उपाधि प्राप्‍त की। इसके बाद उन्होंने 2000 में मुजफ्फरपुर के बीआर अंबेडकर बिहार विश्‍वविद्यालय से पीएचडी की उपाधि प्राप्‍त की, जो काफी विवादों में रही। उनकी शादी हिना शेख से हुई, जो 2009 में सीवान लोकसभा सीट से राजद के तरफ से चुनाव लड़ी थीं और हार गई थीं। उनके एक पुत्र और दो पुत्रियां हैं।
महज 21 साल की उम्र में शहाबुद्दीन के खिलाफ सीवान के एक थाने में पहला मामला दर्ज हुआ था। धीरे-धीरे शहाबुद्दीन सीवान के मोस्ट वांटेड क्रिमिनल बन गए। शहाबुद्दीन पर उनकी उम्र से भी ज्यादा 56 मुकदमे दर्ज हैं। इनमें से 6 में उन्हें सजा हो चुकी है। भाकपा माले के कार्यकर्ता छोटेलाल गुप्ता के अपहरण व हत्या के मामले में वह आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे हैं।

Mohammad Shahabuddin

2003 में शहाबुद्दीन को वर्ष 1999 में माकपा माले के सदस्‍य का अपहरण करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिए गया, लेकिन वे स्‍वास्‍थ्य खराब होने का बहाना कर सीवान जिला अस्‍पताल में रहने लगे, जहां से वे 2004 में होने वाले चुनाव की तैयारियां करने लगे। चुनाव में उन्होंने जनता दल यूनाइटेड के प्रत्याशी को 3 लाख से ज्‍यादा वोटों से हराया। इसके बाद शहाबुद्दीन के समर्थकों ने 8 जदयू कार्यकर्ताओं को मार डाला तथा कई कार्यकर्ताओं को पीटा। समर्थकों ने ओमप्रकाश यादव के ऊपर भी हमला कर दिया जिसमें वे बाल-बाल बचे, मगर उनके बहुत सारे समर्थक मारे गए। इस घटना के बाद मो. शहाबुद्दीन के ऊपर राज्‍य के कई थानों में 34 मामले दर्ज हो गए।

1986 में हुई थी पहली एफआईआर

शहाबुद्दीन का सियासी सफर शुरू होने से काफी पहले उनकी दबंगई के चर्चे आम थे। रिकॉर्ड के मुताबिक उन पर पहली एफआईआर 1986 में सीवान जिले के हुसैनगंज थाने में दर्ज हुई थी। उसके बाद उनकी छवि ऐसी बनी कि लोग सरेआम उनका नाम लेने से भी डरते थे। चुनाव लडऩे के दौरान सीवान शहर में शहाबुद्दीन की पार्टी को छोड़कर दूसरे किसी प्रत्याशी का झंडा लगाने की हिम्मत किसी को नहीं होती थी।

Mohammad Shahabuddin

1990 में पहली बार बने विधायक

सीवान जिले के जिरादेई विधानसभा से वह पहली बार जनता दल के टिकट पर विधानसभा पहुंचे। तब वह सबसे कम उम्र के जनप्रतिनिधि थे। दोबारा उसी सीट से 1995 में चुनाव में जीत दर्ज की। 1996 में वह पहली बार सीवान से लोकसभा के लिए चुने गए। एचडी देवगौड़ा के नेतृत्व वाली सरकार में उन्हें गृह राज्य मंत्री बनाए जाने की बात चर्चा में ही आई थी कि मीडिया में शहाबुद्दीन के आपराधिक रिकॉर्ड की खबरें छपीं। इसके बाद उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल करने का मामला पीछे रह गया।

जिसकी सरेआम पिटाई की, उसी ने 2 बार हराया

अपहरण और हत्या के मामले में शहाबुद्दीन को 2007 में आजीवन कारावास की सजा हुई थी। आपराधिक मामले में सजा मिलने के बाद चुनाव आयोग ने उनके चुनाव लडऩे पर प्रतिबंध लगा दिया। इस तरह 2009 के लोकसभा चुनाव में वह चुनाव नहीं लड़ सके। ऐसे में राजद ने 2009 और 2014 में शहाबुद्दीन की पत्नी हीना शहाब को टिकट दिया था, पर निर्दलीय ओम प्रकाश यादव ने 2009 में उन्हें करीब 60 हजार वोटों से हरा दिया था। इसके बाद 2014 में बीजेपी के टिकट पर ओम प्रकाश ने 1 लाख से भी ज्यादा वोटों से हीना को हरा दिया। यह वही ओम प्रकाश थे जिन्हें कभी शहाबुद्दीन ने सरेआम पीटा था।

पुलिस अफसर को मारा थप्‍पड़, विवाद में कई पुलिस वालों की गई जान

16 मार्च 2001 सीवान पुलिस के लिए काला दिन था, क्‍योंकि मो. शहाबुद्दीन ने राजद नेता मनोज कुमार की गिरफ्तारी के दौरान गई पुलिस को रोका और पुलिस अफसर को जोरदार थप्‍पड़ तथा उनके समर्थकों ने पुलिस को मारा था। इस घटना ने बिहार पुलिस को झकझोरकर रख दिया। बिहार पुलिस ने तुरंत राज्‍य टास्‍क फोर्स तथा उत्‍तरप्रदेश पुलिस के साथ मिलकर मो. शहाबुद्दीन के गांव तथा घर को घेरकर हमला कर लिया। इस हमले के बाद दोनों ओर से कई राउंड गोलियां चलीं जिसमें पुलिस वाले सहित कई लोग मारे गए। इस मुठभेड़ के बाद भी मो. शहाबुद्दीन घर से भागकर नेपाल पहुंच गया।

आईएसआई से थे संबंध, घर में मिले थे पाक मेड हथियार

राज्य के तत्कालीन डीजीपी डीपी ओझा ने शहाबुद्दीन के आईएसआई से लिंक के बारे में सौ पेज की रिपोर्ट दी थी। तब वह रिपोर्ट देश भर में चर्चा में थी। दरअसल, अप्रैल 2005 में सीवान के तत्कालीन एसपी रत्न संजय और डीएम सीके अनिल ने शहाबुद्दीन के प्रतापपुर स्थित घर पर छापेमारी की थी। उस दौरान पाकिस्तान निर्मित कई गोलियां, एके 47 सहित ऐसे उपकरण मिले थे जिसका इस्तेमाल सिर्फ मिलिट्री में ही किया जाता है। उसमें नाइट ग्लास गॉगल्स और लेजर गाइडेड भी शामिल था। इन उपकरणों पर पाकिस्तान आडिनेंस फैक्टरी के मुहर लगे हुए थे। इस घटना के बाद जिले में तनाव ज्‍यादा बढ़ गया जिससे संभालने के लिए जिले में कई महीनों तक टास्‍क फोर्स मौजूद रही।

जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष की हत्या का लगा था आरोप

मार्च 1997 में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष रहे चंद्रशेखर को सीवान में तब गोलियों से छलनी कर दिया गया था, जब वो एक कार्यक्रम के सिलसिले में नुक्कड़ सभा कर रहे थे। इस हमले में शहाबुद्दीन के बेहद करीबी रहे रुस्तम मियां को सजा हो चुकी है। यह अजीब है कि अपराध की दुनिया में खासा दखल रखने वाले शहाबुद्दीन ने मुजफ्फरपुर के बीआर अम्बेडकर विश्वविद्यालय से पोलिटिकल साइंस में पीएचडी की डिग्री हासिल की।

लगता था कोर्ट, सुनाया जाता था फैसला

सामाज पर शहाबुद्दीन का प्रभाव तो पहले से ही पडऩा शुरू हो गया था। जैसे-जैसे सत्ता का संरक्षण मिलता गया, उनकी ताकत भी बढ़ती गयी। शहाबुद्दीन की अदालत काफी सुर्खियों में रही थी। फरियादी उनके पास आते और वहां से तत्काल न्याय पाते। इस क्रम में उन्होंने फरमान जारी किया कि डॉक्टरों की फीस 50 रुपए होगी। जाहिर है किसी में इस आदेश को नकारने की हिम्मत नहीं थी। हालांकि, अब डॉक्टरों ने अपनी फीस बढ़ा दी है।

(नोट यह पूरी पोस्ट पत्रिका डॉट कॉम से साभार ली गई है।)

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments