रातोंरात चुनाव आयोग की बड़ी कार्रवाई, 48 घंटे तक प्रचार करने पर लगाई रोक

गुवाहाटी: Assam Assembly Elections 2021: चुनाव आयोग ने असम के बीजेपी नेता हिमांता बिश्‍व सरमा पर 48 घंटे के लिए प्रचार करने से प्रतिबंधित कर दिया है. हिमांता की ओर से एक नेता पर NIA की कार्रवाई की धमकी देने पर यह कार्रवाई की गई है.चुनाव आयोग ने कांग्रेस की ओर से की गई शिकायत पर बीजेपी नेता और असम के मंत्री बिश्‍व सरमा के खिलाफ यह कदम उठाया है.गौरतलब है कि इससे पहले चुनाव आयोग (Election Commission) ने कांग्रेस की ओर से की गई शिकायत पर बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) को नोटिस भेजकर जवाब मांगा था. कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि बिस्वा सरमा ने हग्रामा मोहिलारी (Hagrama Mohilary) के खिलाफ धमकी भरे शब्दों का इस्तेमाल किया है. मोहिलारी बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (Bodoland People’s Front) के प्रमुख हैं, जिन्होंने चुनाव के ठीक पहले बीजेपी का साथ छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम लिया था.

कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आय़ोग को 30 मार्च को एक शिकायत सौंपी थी. इसमें आरोप लगाया गया है कि बिस्वा सरमा ने मोहिलारी को सार्वजनिक रूप से धमकी दी. इसमें सरमा ने कथित तौर पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा मोहिलारी को जेल भेजने की बात कही थी.आयोग को राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से सरमा के बयान का पूरा अंश मिला था. इसमें सरमा ने कहा है अगर हग्रामा मोहिलारी ने उग्रवाद का रास्ता चुना तो वह जेल जाएगा. यह सीधी बात है. अगर मोहिलारी ने बाथा को प्रोत्साहित किया तो उसे जेल जाना पड़ेगा.

इस मामले के सामने आने के भीड़

द्वारा उस वाहन पर हमला किए जाने का मामला सामने आया है, जिसके बाद स्थिति नियंत्रण में लेने के लिए पुलिस को हवाई फायरिंग करनी पड़ी. समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, शुक्रवार को अधिकारियों ने बताया कि राताबारी विधानसभा क्षेत्र के इंदिरा एमवी स्कूल की पोलिंग पार्टी का वाहन करीमगंज कस्बे में स्ट्रॉन्ग रूम की तरफ जा रहा था, जब गाड़ी खराब हो गई. जिला प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया, उन्होंने एक निजी वाहन से लिफ्ट लिया. संयोग से ये वाहन पथरकांडी से भाजपा विधायक कृष्णेंदु पॉल के नाम रजिस्टर है. जब यह वाहन निमल बाजार क्षेत्र में पहुंचा, तो कुछ लोगों ने इसे देख लिया. पॉल इस सीट से वर्तमान चुनाव में भाजपा उम्मीदवार भी हैं. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि भीड़ में मुख्य रूप से एआईयूडीएफ और कांग्रेस समर्थक थे,

जिन्होंने वाहन में तोड़फोड़ की

जिसके बाद पोलिंग पार्टी ईवीएम छोड़कर वहां से भाग निकली. पुलिस सूत्रों ने बताया, डिप्टी एसपी और एसपी तुरंत घटनास्थल पर पहुंचे. उन्होंने भीड़ को शांत करने की कोशिश की, लेकिन भीड़ ने उनकी नहीं सुनी, जिसके बाद उन्हें तितर बितर करने के लिए पुलिस को हवाई फायरिंग करनी पड़ी. उन्होंने कहा कि इसके बाद डिप्टी एसपी और एसपी रात में ईवीएम को पथरकांडी पुलिस स्टेशन लेकर गए. वहां से ईवीएम को करीमगंज कस्बे में बने स्टॉन्ग रूम में जमा करा दिया गया. राताबारी और पथरकांडी सीटों पर बृहस्पतिवार को दूसरे चरण के तहत चुनाव हुए थे.

Leave a Comment