कंगना रनौत के वो विवादित बोल, जिनके चलते लड़ रही कानूनी लड़ाई, ट्विटर पर हो गई थीं बैन

मुंबई, 12 नवंबर: बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत अपनी फिल्मों में एक्टिंग के साथ-साथ अपने बयानों को लेकर भी अकसर सुर्खियों में रहतीं हैं। हाल ही में उनको पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है, जिसके बाद उन्होंने एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में देश की आजादी को लेकर विवादित बयान देकर नया बखेड़ा कर दिया, उनके इस बयान के बाद अब सोशल मीडिया पर उनसे पद्मश्री पुरस्कार वापस लेने और देश के स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान करने के लिए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग ने जोर पकड़ लिया है।

10 कानूनी मामलों का सामना कर रही कंगना

हालांकि ये पहली बार नहीं है, जब कंगना रनौत ने कुछ विवादित कहा हो। इससे पहले भी उन्होंने कई ऐसे बयान दिए हैं, जिनसे विवाद गहराया है। कंगना के विवादित बयानों की लिस्ट काफी लंबी हैं। हमेशा निडर होकर बोलने वालीं कंगना कई बार अपने बयानों के चलते विवादों में फंसी हैं। उनके कई ऐसे बयान है, जिन्होंने देश में ना सिर्फ नई बहस को जन्म दिया है,

 10 कानूनी मामलों का सामना कर रही कंगना

बल्कि उनको भी काफी ट्रोलिंग का सामना करना पड़ा है। ऐसे में जानिए 10 कानूनी मामलों का सामना करने वालीं कंगना के वो विवादित बोल, जिसके बाद वो लोगों के निशाने पर आ गईं।

 '1947 में 'भीख' मिली, असली आजादी 2014 में मिली'

‘1947 में ‘भीख’ मिली, असली आजादी 2014 में मिली

‘हाल ही में एक न्यूज चैनल के प्रोग्राम में हिस्सा लेते हुए कंगना रनौत ने उस वक्त विवाद को जन्म दे दिया था, जब उन्होंने लाइव कार्यक्रम में ये कह डाला कि भारत को असली आजादी 2014 में मिली। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि देश को जो 1947 में आजादी मिली थी, वो भीख में मिली थी, जिसके बाद एक्ट्रेस सोशल मीडिया सहित राजनीतिक पार्टियों के निशाने पर आ गईं। कंगना का सोशल मीडिया पर एक 24 सेकंड का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें उनको साफ कहते सुना जा सकता है कि असल आजादी 2014 में मिली है।

ममता बनर्जी को बोला था- 'खून की प्यासी ताड़का'

ममता बनर्जी को बोला था- ‘खून की प्यासी ताड़का’

इससे पहले कंगना ने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को लेकर भी विवादित बयान दिया था। उन्होंने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के रिजल्ट के दौरान टीएमसी की जीत के बाद ऐसा ट्वीट किया था, जिसके बाद उनको बुरी तरह से ट्रोल किया गया। कंगना ने अपने ट्वीट में लिखा था ‘मैं गलत थी। वह रावण नहीं है। रावण महान राजा था, उसने दुनिया का सबसे अमीर देश बनाया था। मगर यह खून की प्यासी राक्षसी ताड़का है। जिन लोगों ने इन्हें वोट दिया तुम्हारे भी हाथ खून से रंगे हुए हैं। बता दें कि इस ट्वीट के बाद ही कंगना को ट्विटर से हाथ धोना पड़ा था।

जब मुंबई की कर दी थी POK से तुलना

जब मुंबई की कर दी थी POK से तुलना

एक्ट्रेस सुशांत सिंह राजपूत केस में कंगना ने बॉलीवुड इंडस्ट्री पर कई संगीन आरोप लगाए थे। उनके निशाने पर करण जौहर से लेकर कई फिल्म मेकर थे। ऐसे में उनके और शिवसेना नेता के बीच काफी जुबानी जंग हुई थी, जिस पर उन्होंने मुंबई से डर लगने की बात कही थी, जिस पर संजय राउत ने कहा था कि अगर कंगना को मुंबई में डर लगता है तो वापस नहीं आना चाहिए, जिसके बाद कंगना रनौत ने मुंबई की तुलना पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) से कर दी थी, जिसके बाद इंडस्ट्री के लोगों ने भी कंगना के इस बयान पर उनको आड़े हाथ लिया था।

किसान आंदोलन पर किया था विवादित पोस्ट

किसान आंदोलन पर किया था विवादित पोस्ट

इतना ही नहीं देश में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर भी एक्ट्रेस कंगना रनौत ने विवादित पोस्ट किया था, जिसके बाद पंजाबी सिंगर दिलजीत दोसांझ और एक्ट्रेस के बीच में लंबी सोशल मीडिया पर जंग चली थी। कंगना में अपने पोस्ट में एक फोटो को शेयर करते हुए दावा करते हुए लिखा था कि ‘शाहीन बाग की दादी’ भी किसानों के आंदोलन से जुड़ गई हैं। साथ ही 100 रुपए में आंदोलन में शामिल होने की बात भी लिखी थी, जिसके बाद उनको कानूनी नोटिस भी भेजा गया था।

जावेद अख्तर ने किया मानहानि केस

जावेद अख्तर ने किया मानहानि केस

वहीं कंगना रनौत और गीतकार जावेद अख्तर की कानूनी लड़ाई काफी लंबे समय से चल रही है। कंगना ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद पूरी फिल्म इंडस्ट्री पर सवाल खड़ा किया। उन्होंने करण जौहर के साथ-साथ नेपोटिज्म का मुद्दा उठाकर इंडस्ट्री को आड़े हाथ लिया था। ऐसे में इस हंगामे के दौरान उन्होंने जावेद अख्तर पर भी कई आरोप लगाए थे, जिसके बाद जावेद ने उन पर मानहानि का केस किया था। जो अदालत में चल रहा है।

16 thoughts on “कंगना रनौत के वो विवादित बोल, जिनके चलते लड़ रही कानूनी लड़ाई, ट्विटर पर हो गई थीं बैन”

Leave a Reply

Your email address will not be published.