PM मोदी द्वारा पाकिस्तान का पानी रोकने की बात पर PAK के विदेश प्रवक्ता ने कहा – भारत द्वारा पानी रोकने की कोई भी कार्रवाई आक्रामक मानी जाएगी 

भारत सरकार द्वारा जब से जम्मु-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म किया है तब से पाकिस्तान के साथ भारत का तनाव बढ़ा हुआ है। पाकिस्तान विश्व की अनेक मंचों से इस मुद्दे को उठाता आ रहा है लेकिन पाकिस्तान इस मामले में अलग-थलग दिखाई दे रहा है। पाकिस्तान का साथ देने कोई भी देश आगे नही आ रहा है। पाकिस्तान की इस हरकत पर हरियाणा विधानसभा चुनाव का प्रचार करने पहुचें पीएम मोदी ने कहा था कि सरकार पाकिस्तान जा रही नदीयों का पानी रोक देगी। पीएम के इस बयान पर पाकिस्तान के विदेश प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने टीप्पणी की है और इसे अपना विशेषाधिकार बताया है।

पाकिस्तान ने कहा हमारे पास है विशेषाधिकार 

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने साप्ताहिक प्रेस वर्ता के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पानी रोके जाने वाले बयान का जवाब दिया है।  फैसल ने कहा कि सिंधु जल संधि के तहत पाकिस्तान का तीन पश्चिमी नदियों के पानी पर विशेषाधिकार है। नदियों का नाम लिए बिना उन्होंने कहा की “भारत की और से इन नदियों का पानी रोकने की कोई भी कार्रवाई आक्रामक मानी जाएगी और पाकिस्तान के पास इसका जवाब देने का अधिकार है।”

आपको बता दे कि सिंधु, चिनाब और झेलम नदी का पानी पाकिस्तान की और जाता है। इनके पानी वितरण के लिए सिंधु जल संधि समझौता भारत और पाकिस्तान के बिच वर्ष 1960 में हुआ था। कराची में भारत के तात्कालिन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पाकिस्तान के तातकलिन राष्ट्रपति अयूब खान ने इस समझौते पर  हस्ताक्षर किए थे।

Leave a Comment