एयर स्ट्राइक के बाद आतंकी मसूद अजहर पर भारत और चीन के बीच बड़ी बैठक, रूस भी शामिल

ऐसे वक्त में जब भारत की वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर आतंक के अड्डों को तबाह किया है, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज चीन को साधने निकली हैं. बुधवार सुबह विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने वुज़ेन में चीन के विदेश मंत्री वांग ली और रूसी विदेश मंत्री से मुलाकात की. यहां उन्होंने पुलवामा में हुए आतंकी हमले का जिक्र किया और कहा भारत आतंकवाद के खिलाफ ज़ीरो टॉलरेंस की नीति रखता है. भारत की एयरस्ट्राइक का जिक्र करते हुए सुषमा स्वराज ने चीनी विदेश मंत्री के सामने कहा, ‘’ मेरा चीन का दौरा ऐसे समय पर हो रहा है जब भारत दुख और गुस्से से भरा हुआ है. कुछ दिन पहले ही जम्मू-कश्मीर में एक बड़ा आतंकी हमला हुआ था.’

सुषमा ने कहा कि इस आतंकी हमले को पाकिस्तान से चलने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम दिया था. जिसका जवाब भारत ने दिया है. सुषमा ने चीन को बताया कि जब पाकिस्तान ने जैश के खिलाफ कोई कड़ा कदम नहीं उठाया, तो भारत ने ऐसा कर दिया. सुषमा ने मंगलवार तड़के भारत के द्वारा की गई एयरस्ट्राइक की जानकारी रूस और चीन के विदेश मंत्रियों को दी. उन्होंने बताया कि पुख्ता इनपुट मिलने के बाद भारत की वायुसेना ने जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी अड्डों के खिलाफ कार्रवाई की, इसमें कई आतंकवादी मारे गए हैं.

विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ होने वाली बैठक को काफी अहम माना जा रहा है. पुलवामा हमले के बाद से दुनियाभर के देशों का सहयोग भारत को मिल रहा है. भारत चाहता है कि सभी देश मिलकर आतंकी मसूद अजहर को वैश्‍विक आतंकी घोषित करने में उसका साथ दें. गौरतलब है कि पिछले कई बार से चीन वीटो का इस्‍तेमाल कर आतंकी मसूद अजहर को वैश्‍विक आतंकी घोषित करने पर अड़ंगा लगाता रहा है. गौरतलब है कि चीन ने पुलवामा में हुए आतंकी हमले की निंदा की है. चीन ने एक बयान जारी कर कहा है कि इस घटना से वह चौंक गया है और आतंकवाद की कड़ी निंदा करता है. वहीं भारत में रूस के राजदूत ने पुलवामा हमले पर दुख जताया है. इसके साथ ही रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि  उन्होंने कहा कि उनकी संवेदनायें भारत के साथ हैं. हम इस क्रूर अपराध की कड़ी निंदा करते हैं. इस हमले के अपराधियों और प्रायोजकों को बेशक सजा दी जानी चाहिए.

 

 

Leave a Comment