प्रदूषित तालाब के पास अग्निहोत्र यज्ञ कर मनाया पर्यावरण दिवस, मालव मंथन संस्था का आभार

इंदौर. विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में मालव मंथन संस्था द्वारा अटल उद्यान में धन्वंतरि नगर रहवासी संघ के साथ पंचतत्व संरक्षण अग्निहोत्र एवं वृक्ष पूजन का आयोजन किया गया । कार्यक्रम की अध्यक्षता पार्षद श्री बलराम वर्मा ने की । आयोजन के मुख्य अतिथि भोपाल से आये अग्निहोत्र प्रचारक श्री परांजपे जी ने बताया कि अग्निहोत्र यज्ञ से पर्यावरण को कैसे संरक्षण दिया जा सकता है । प्रतिदिन सूर्योदय अथवा सूर्यास्त के समय अग्निहोत्र करने का विधान वेदों में है और वेद के इन मंत्रों को महर्षि दयानंद ने पंचमहायज्ञ विधि में प्रस्तुत किया । अग्निहोत्र यज्ञ में गौ धृत , शक्कर और चावल की कण्डे की अग्नि में आहूति दी जाती है । इन आहूतियो से निकलने वाला धुंआ आसपास के संपूर्ण क्षेत्र को शुद्ध करता है , प्रदूषण कम होने के साथ आक्सीजन बढ़ती है , भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ती है , और साथ ही लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है । मालवमंथन संस्था के संस्थापक श्री स्वप्निल व्यास ने बताया कि किसी समय यह विदेशी जो भारतीयों को ब्लेक इंडियन , धूनी रमाने वाले अनपढ़ कहते थे वही इस यज्ञ को अपने देश लेगये और इन यज्ञ की धुनी से बने केप्सूल बेच रहे है , और आज हम इतने आधुनिक हो गये है कि वही केप्सूल खरीद रहे है । नमिता दुबे ने कहा कि जर्मन में अग्निहोत्र फाउंडेशन है जिसने सूर्य कि पहली किरण के साथ एक प्रदूषित तालाब के पास अग्निहोत्र यज्ञ किया और कुछ दिनों में ही उन्होंने तालाब का जल काफी हद तक शुद्ध पाया , सूखे पेड़ पर भी 15 दिनों में फूल पत्तियाँ आने लगी । कार्यक्रम के अंत में पर्यावरण संरक्षण हेतु बच्चो और युवा द्वारा कपड़े कि थेलीयो के साथ प्लास्टिक बेग के पूर्ण बहिष्कार की शपथ दिलवाई गई । कार्यक्रम का संचालन रहवासी संघ के अध्यक्ष श्री सतीश मुन्ग्रे जी ने किया ।अतिथियों को स्मृति चिन्ह के रूप में औषधीय पौधे एवं रचना चापेकर ने प्रदान किये एवं यज्ञ विधान पंडित देवेंद्र पाठक ने संपन्न कराया गया अंत में संस्था की प्रो वंदना जोशी ने आभार प्रगट किया गया ।

Leave a Comment