Home ख़बर जरा हटकर कुंडली और टीकरी बॉर्डर के साथ यूपी गेट से भी किसानों के...

कुंडली और टीकरी बॉर्डर के साथ यूपी गेट से भी किसानों के लिए बुरी खबर, पढ़िये- पूरा मामला

नई दिल्ली/सोनीपत/गाजियाबाद। तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में यूपी गेट, टीकरी बॉर्डर और सिंघु बॉर्डर से किसानों के लिए बुरी खबर आई। जहां कुंडली बॉर्डर पर बृहस्पतिवार को लगी आग में 3 टेंट जल गए, वहीं, यूपी गेट पर भी धरना दे रहे प्रदर्शनकारियों के टेंट में बृहस्पतिवार शाम को आग लग गई। मौके पर तैनात अग्निशमनकíमयों ने आग पर काबू पा लिया। कोई हताहत नहीं हुआ। 28 नवंबर से यूपी गेट पर धरना प्रदर्शन चल रहा है। प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस- वे के दिल्ली जाने वाली लेन पर कब्जा कर मंच बना लिया है। इसके पीछे टेंट लगाकर मीडिया सेंटर बनाया गया है। बृहस्पतिवार शाम करीब छह बजे मीडिया सेंटर में अचानक आग लग गई। प्रदर्शनकारियों ने उस पर काबू पाने का प्रयास शुरू किया। अग्निशमनकर्मी भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने आग पर काबू पाया।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र मलिक ने साजिश के तहत आग लगाए जाने का आरोप लगाया है। उन्होंने ट्वीट भी किया है। वहीं, मुख्य अग्निशमन अधिकारी गाजियाबाद सुनील कुमार सिंह ने बताया कि आग को फौरन बुझा दिया गया। कोई हताहत नहीं हुआ है।

कृषि कानून विरोधी आंदोलन में शामिल बुजुर्ग लापता

वहीं, सोनीपत में कृषि कानून विरोधी आंदोलन के धरने में शामिल होने आया बुजुर्ग संदिग्ध हालात में गायब हो गया। वह अपने गांव के लोगों के साथ कैंप में सोया था। सुबह को उनका कहीं पर पता नहीं लगने पर परिवार के लोगों को सूचना दी गई। उनके गायब होने की सूचना पर स्वजन और रिश्तेदार कुंडली बार्डर पर पहुंचे। कई दिन की तलाश के बावजूद उनका पता नहीं लग पाया है।

इससे पहले कृषि कानून विरोधी आंदोलन के धरने में शामिल होने आए एक बुजुर्ग अचानक से गायब हो गए थे। ये अपने गांव के लोगों के साथ कैंप में सोने के लिए आए थे। वहीं सुबह ये गायब हो गए। जिसके बाद लोगों ने इस बारे में परिवार के लोगों को सूचना दी। ये सूचना मिलने पर रिश्तेदार कुंडली बार्डर पर पहुंचे और उनकी तलाश करने लगे। कई दिनों तक तलाश करने के बावजूद उनका पता नहीं चला। जिसके बाद पुलिस से मदद मांगी गई।

modi shah

पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। लखवीर सिंह ने पुलिस को बताया कि वह पंजाब के जिला संगरूर थाना भवानीगढ़ के गांव निदामपुर के रहने वाले हैं। उनके 70 वर्षीय पिता करनैल सिंह धरने में शामिल होने के लिए आए थे। वह आठ अप्रैल की शाम को नौ बजे कुंडली पहुंचे थे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments