Home Political Samachar मेहुल चौकसी ने की PM नरेंद्र मोदी पर पीएचडी, इस तरह हुई..

मेहुल चौकसी ने की PM नरेंद्र मोदी पर पीएचडी, इस तरह हुई..

सूरत : कुछ घटनाएं दिलो दिमाग पर ऐसे छा जाती हैं कि उनके ख्याल आते ही कुछ नाम खुद ब ख़ुद ज़बान पर आ जाते है ।ऐसा ही एक मामला पंजाब नेशनल बैंक के घोटा’ले का है। 1400 करोड़ के इस घो’टाले के साथ दो नाम एक साथ सामने आ जाते हैं।एक हैं नीरव मोदी और दूसरे मेहुल चौकसी।इन दोनों पर ही घो’टालों का आरोप है और दोनों ही देश से बाहर हैं। लेकिन आज हम आप को बताने जा रहे हैं एक और मेहुल चौकसी के बारे मे, जो एक अच्छे कारण से चर्चा मे हैं।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पीएचडी की है।यह मेहुल चौकसी गुजरात के शहर सूरत के एक प्रतिभाशाली छात्र है।उन्होंने राजनीतिक विज्ञान में स्नातकोत्तर (एमए) करने के बाद वीर नर्मद गुजरात विश्वविद्यालय मे“नरेंद्र मोदी की केस स्टडी- सरकार में नेतृत्व ” विषय पर अपनी रिसर्च थीसिस प्रस्तुत की है। मेहुल चौकसी ने 2010 से इस टॉपिक पर अपनी रिसर्च शुरू की थी । उन्होंने ने अपनी रिसर्च के लिए 450 लोगों से बातचीत की है। जिसमें सरकारी अफसर, किसान, छात्र और राजनेता शामिल हैं। इस दौरान मेहुल ने मुख्यतः प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की गुणवत्ता के बारे में सवाल पूछे थे।

समाचार एजेंसी एएनआई को मेहुल ने बताया है कि उन्होंने 32 सवालो की प्रपत्र तैयार किया था। सर्वे का आकलन करके उन्होंने पाया कि 25 प्रतिशत लोग प्रधानमंत्री मोदी के भाषण को सबसे अधिक आकर्षक मानता हैं, जबकि 48 फीसदी लोग प्रधानमंत्री की राजनीतिक मार्केटिंग को अच्छा मानते है।सर्वे मे 51 प्रतिशत लोगों ने प्रधानमंत्री के बारे मे सकारात्मक वहीं 34.25 प्रतिशत लोगों ने नाकारात्मक जवाब दिए थे। इसके अलावा 81 प्रतिशत लोगों ने कहा था कि सकारात्मक सोच वाला व्यक्ति ही प्रधानमंत्री होना चाहिए। 31 प्रतिशत लोगों ने प्रमाणिकता और 34 प्रतिशत लोगों ने पारदर्शिता को अहमियत दी।

आप को बता दें कि जब मेहुल चौकसी ने अपनी रिसर्च शुरू की थी तब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। मेहुल ने बताया तब उन्होंने मुख्यमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी से जुड़े सवाल पूछे थे।बाद मे उनकी रिसर्च के दौरान ही नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री हो गये थे। ऐसे मे शीर्ष स्तर पर बैठे व्यक्ति पर निष्पक्ष रिसर्च करना आसान नहीं था। अपनी रिसर्च में उन्होंने किन पहलुओं को लिया है ये तो तभी सही से पता चल सकता है जब इसको पढ़ा जाए। फ़िलहाल तो हम यही उम्मीद करेंगे कि उन्होंने अपनी रिसर्च को ख़ूब मेहनत और अच्छे से किया हो ताकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में निष्पक्ष जानकारी प्राप्त हो सके।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments