छत्तीसगढ़ में पत्थलगड़ी से बिगड़े कई के राजनीतिक समीकरण

रायपुर। झारखंड के रास्ते छत्तीसगढ़ के जशपुर पहुंचे पत्थलगड़ी आंदोलन ने चुनावी साल में यहां के कई राजनीतिक समीकरणों को बिगाड़ दिया है। आदिवासी वोट बैंक इस बार दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों के फोकस में है। इसी वजह से एक दल अब तक पार्टी से दूरी बनाए रखने वाले क्रिश्चियन वोटरों को साधने की कवायद में जुटा था। इस बीच पत्थलगड़ी के कारण सरगुजा संभाग का पूरा आदिवासी वोट बैंक दो धड़ों में बंट गया है। एक पत्थलगड़ी के पक्ष में है तो दूसरा विरोध में। इससे वहां टकराव के हालात बने हुए हैं।

सियासी घमासान जारी

आदिवासी वोट बैंक को साधने के लिए पत्थलगड़ी को लेकर सियासी घमासान जारी है। कांग्रेस और भाजपा का इस मामले में एक-दूसरे पर तरह-तरह का आरोप है। कोई इसे धर्म नहीं वरन विकास से जुड़ा मसला बता रहा है तो कोई इसे राष्ट्र द्रोह से जोड़ रहा है। इधर, विरोध में आदिवासियों का एक अलग संगठन भी खड़ा कर दिया गया है। दोनों राष्ट्रीय दलों में चल रही इस खींचतान में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पार्टी भी कूद पड़ी है।

Leave a Comment