Home Uncategorized वो स्कूल जाने के लिए रोज़ 22 Km पैदल चलता था, 10वीं...

वो स्कूल जाने के लिए रोज़ 22 Km पैदल चलता था, 10वीं बोर्ड में 82% लेकर आया

महाराष्ट्र के पुणे में पड़ने वाले पानशेत तक पहुंचना एक लड़के के लिए उसकी ज़िन्दगी की सबसे बड़ी चुनौती है. वो रोज़ अपने घर से 11 Km दूर Panshet के लिए पैदल निकलता है और दिन के अंत में वापस 11 Km पैदल चल कर आता है.

दिन भर की 22 Km की ये थका देने वाले यात्रा उसके जीवन का हिस्सा बन चुकी है, क्योंकि यहां उसका स्कूल है. 16 साल के अनंत डोईफोडे के इस रूटीन ने उनकी पढ़ाई पर कोई असर नहीं डाला. दसवीं क्लास में पढ़ने वाले अनंत ने बोर्ड एग्जाम में 82.80 प्रतिशत मार्क्स हासिल किये.

बातचीत में अनंत ने बताया, “मैं रोज़ 4 बजे उठता हूं और 6 बजे तक पढ़ता हूं. फिर एक घंटे सो कर स्कूल की पैदल पर जाने के लिए तैयार होता हूं. स्कूल से आने के बाद भी मैं पढ़ता हूं क्योंकि मुझे पता था कि 10वीं की पढ़ाई कितनी ज़रूरी है.”

पुणे के एक दूर-दराज इलाके में रहने वाले अनंत का घर मिट्टी का है, जहां वो अपनी मां और भाई-बहनों के साथ रहता है. वो घर में सबसे बड़ा है. उसके पिता एक कैंटीन में वेटर के तौर पर काम करते हैं. उनके घर में दिन में भी अंधेरा रहता है, सुविधा के नाम पर घर में एक पंखा भी नहीं. लेकिन, अनंत बड़े सपने देखता है. वो पुणे के जूनियर सिटी कॉलेज से पढ़ाई करना चाहता है और आगे UPSC की तरह कर सिविल सेवा में आना चाहता है. उसके परिवार वाले और शुभचिंतक उसके नंबर्स से ज़रूर ख़ुश हैं लेकिन अनंत को 90 % तक की उम्मीद थी, वो अपने रिजल्ट से ख़ुश नहीं है.

“मैं शायद 90% ले आता अगर मैं स्कूल के पास बने हॉस्टल में रहता लेकिन हमारे पास इतने पैसे नहीं हैं. रोज़ 4 घंटे चल कर मैं थक जाता हूं, शरीर में जान नहीं बचती.” उसका गांव पुणे से महज़ 60 Km दूर है. वेल्हा तहसील में पड़ने वाल वरघाड उसका गांव हैं. इस गांव में लगभग 1000 लोग रहते थे लेकिन अच्छी ज़िन्दगी के लिए सभी शहरों की तरफ़ चले गए. अब मुश्किल से 50 परिवार बचे हैं. 7 वीं तक बच्चे जिला परिषद के स्कूल में पढ़ सकते हैं लेकिन उसके बाद यहां कोई स्कूल नहीं. अगला स्कूल 11 Km बाद पानशेत में पड़ता है.

इस इलाके से पानशेत के लिए बस सेवा है लेकिन उसका कोई फिक्स टाइम यही है. कभी वो शाम को 6 बजे आती है कभी 10. प्रशासन भी इस इलाके में ज़्यादा ध्यान नहीं देता क्योंकि उनके अनुसार यहां डिमांड नहीं है. जब तक ये नहीं होता, अनंत को यूं ही पैदल संघर्ष करना होगा.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments