भा’ज’पा को लगा अब तक का सबसे ब’ड़ा झ’ट’का, इस दि’ग्ग’ज ने था’मा टीएमसी का हाथ…

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाला है सभी पार्टिया अपनी पुरज़ोर कोशिश कर रही है सत्ता में आने के लिए या सत्ता को बचाने के लिए, सबसे ज़ायदा जनता कि नज़र पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव पर है जहा भाजपा और टीएमसी आमने-सामने है, पश्चिम बंगाल के चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने कमर कस ली है राजनीति पूरी तरह से गरमाई हुई है सभी पार्टिया अपने अपने कैंडिडेट और स्टार-प्रचारको कि लिस्ट जारी कर रही है तो इसी बिच भाजपा को एक बड़ा झटका लग गया है.

लगातार अपने बयानों से मोदी सरकार को घेरने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने वाले हैं, बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा टीएमसी भवन पहुंच गए हैं,बिहार के पटना में जन्मे और शिक्षित हुए सिन्हा ने 1958 में राजनीति शास्त्र में अपनी मास्टर्स डिग्री प्राप्त की, इसके उपरांत उन्होंने पटना विश्वविद्यालय में 1960 तक इसी विषय की शिक्षा दी बता दें कि यशवंत सिन्हा बीजेपी से काफी दिनों से नाराज चल रहे थे और अपने बयानों से सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहे थे.

कहा जा रहा है कि यशवंत सिन्हा राज्यसभा भेजे जा सकते हैं, दिनेश त्रिवेदी ने हाल ही में राज्यसभा पद से इस्तीफा दिया है जिसके बाद से यह सीट यशवंत सिन्हा को दिए जाने की अटकलें लगाई जा रही हैं.टीएमसी में शामिल होने के बाद यशवंत सिन्हा के निशाने पर चुनाव आयोग रहा, उन्होंने कहा कि मैं बहुत अफसोस के साथ कह रहा हूं कि चुनाव आयोग अब स्वतंत्र संस्था नहीं रही है.

तोड़-मरोड़ कर चुनाव कराने का फैसला मोदी-शाह के नियंत्रण में लिया गया है और भाजपा को फायदा पहुंचाने के​ ​ख्याल से लिया गया है, यशवंत सिन्हा ने टीएमसी की शान में कसीदे पढ़ते हुए कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि तृणमूल कांग्रेस बहुत बड़े बहुमत के साथ सत्ता में वापस आएगी, बंगाल से पूरे देश में एक संदेश जाना चाहिए कि जो कुछ मोदी और शाह दिल्ली से चला रहे हैं, अब देश उसको बर्दाश्त नहीं करेगा.

Leave a Comment