फिर फिसली राहुल की जुबान, नीरव मोदी की जगह बोल गए नरेंद्र…

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की जुबान एक बार फिर फिसल गई. बुधवार को चेन्नै के स्टेला मैरिस कॉलेज में छात्रों के साथ संवाद करते वक्त राहुल गांधी नीरव मोदी की जगह नरेंद्र बोल गए. दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी घोटालेबाज भगौड़े नीरव मोदी की बात कर रहे थे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ये लोग हजारों करोड़ रुपये लेकर भाग जाते हैं. उन्होंने सवाल किया, नीरव मोदी ने भारत के लिए कितनी नौकरियां पैदा कीं? मैं शर्त लगा सकता हूं कि अगर सरकार आपको बिजनेस शुरू करने के लिए 30 लाख रुपए दे दिए जाएं तो आप ज्यादा नौकरियां पैदा कर सकते हैं.

राहुल गांधी ने कहा, हम बस यही चाहते हैं कि नरेंद्र….नरेंद्र नहीं, नीरव मोदी जैसे 15-17 करप्ट बिजनेसमैन के हाथों जाने वाला पैसा आपको मिले. जब राहुल नीरव की जगह नरेंद्र बोल गए तो भीड़ से ठहाके गूंजने लगे. राहुल थोड़ी देर रुके और अपनी गलती पर मुस्कुराने लगे. राहुल ने फिर से दोहराया, नीरव मोदी.. आप जैसे एंटरप्रेन्योर के लिए बैंकिंग सिस्टम खोला जाए ताकि युवा महिलाएं और पुरुष बैंक जा सकें और बिजनेस शुरू करने के लिए लोन ले सकें. टी-शर्ट और जीन्स पहने राहुल को जम्मू एवं कश्मीर में शांति लाने के बारे में कांग्रेस की योजना, उनके बहनोई रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ आरोपों और संसद में नरेंद्र मोदी को गले लगाने समेत छात्राओं के तमाम सवालों का सामना करना पड़ा. महिलाओं के साथ संवाद में राहुल ने कहा, महिलाओं को पुरुषों के बराबर होना चाहिए. सच कहूं तो मुझे शीर्ष स्तर पर पर्याप्त संख्या में महिलाएं नहीं दिखतीं. हम संसद में महिला आरक्षण विधेयक पारित करने जा रहे हैं और हम महिलाओं के लिए 33% सरकारी नौकरियां आरक्षित करने जा रहे हैं. कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गले लगने पर पूछे गए सवाल का भी जवाब दिया. राहुल गांधी ने कहा, उनके प्रति मेरे दिल में कोई नफरत नहीं है. उन्होंने कहा, “प्यार हर धर्म की बुनियाद है, चाहे वह हिंदू धर्म हो, इस्लाम हो या ईसाई धर्म हो. मैं संसद में प्रधानमंत्री का भाषण देख रहा था, जहां वह मेरे पिता, दादी, परदादा और कांग्रेस की आलोचना कर रहे थे.” राहुल ने कहा, “अपने भीतर मैं उनके प्रति स्नेह महसूस कर रहा था. वह इतना गुस्से में थे कि वह दुनिया की सुंदरता नहीं देख पा रहे थे. राहुल ने कहा, “मैंने महसूस किया कि मोदी को वह प्यार नहीं मिला जो वह चाहते थे. मैं स्नेह दिखाना चाहता था और इसलिए मैंने उन्हें गले लगाया.”
उन्होंने कहा, “मैं मोदी से सीखता हूं. मैं उनसे नफरत नहीं करता. क्या आप उस व्यक्ति से नफरत करते हैं जो आपको सिखाता है?” राहुल के साथ बातचीत के दौरान हल्के-फुल्के क्षण भी आए, जब छात्राओं ने राहुल को संबोधित करने के लिए सर कहा जिस पर राहुल ने छात्राओं से सर नहीं कहने को कहा. राहुल की इस बार पर छात्राओं ने तालियां बजाईं. गांधी ने कहा कि वह अभी भी एक युवा राजनेता हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *