दशकों बाद आया सुप्रीम कोर्ट से आयोध्या मामले पर फैसला, अयोध्या में बनेगा राम मंदिर और मस्जिद भी…

आज सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर पर फैसला सुना दिया हैं। देश की सरवोच्च अदालत ने राम जन्मभूमि  मंदिर की विवादित भूमि पर मंदिर बनाने का फैसला दिया हैं। साथ ही मुस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने हेतु अलग से जमीन देने का सरकार को आदेश भी दिया हैं। राम मंदिर को लेकर यह फैसला दो दशकों से भी अधिक समय के इंतजार के बाद आया हैं।

अयोध्या में विराजेंगे रामलला

अयोध्या के विवादित मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों की पीठ ने अपनी सर्व सहमति से फैसला सुनाया हैं। कोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड का दावा एकमत से खारिज किया। जिसके बाद निर्मोही अखाड़े की याचिका भी ख़ारिज हुई। कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण संदेह से परे हैं और इसके अध्ययन को नजर अंदाज नही किया जा सकता हैं। कोर्ट ने यह भी कहा कि बाबरी मस्जिद खाली जमीन पर नही बनी थी। कोर्ट ने अपना निर्णय देते हुए कहा कि मुस्लिम पक्ष को मस्जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ जमीन अलग से दी जाएगी। और यह जमीन कहा दी जाए इसका फैसला केंद्र सरकार करेगी। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि मंदिर वही बनेगा और यह मंदिर ट्रस्ट का गठन कर बनाया जाएगा। कोर्ट ने कहा कि 3 महीने में मंदिर निर्माण हेतु ट्रस्ट बनाई जाए और ट्रस्ट के नियम केंद्र सरकार बनाए। कोर्ट ने रामलला विराजमान को मालिकाना हक दिया है।  सुप्रीम कोर्ट से मामला राम मंदिर बनाने के पक्ष में आने पर कोर्ट परिसर में वकीलों द्वारा जय श्री राम के नारे भी लगे। बाद में अन्य वकीलों ने ऐसा करने से मना कर दिया।

सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला काफी अहम है क्योंकि अब अयोध्या में राम मंदिर भी बनेगा और मस्जिद भी बनेगी। यह फैसला “ना तुम जीते ना में हारा की तर्ज पर आया है”। फैसला आने के बाद सभी इस फैसले को स्वीकार कर रहें।

Leave a Comment