अयोध्या फैसले पर मुस्लिम पक्ष का आया यह बड़ा बयान, कहा – सवाल 5 एकड़ जमीन का नही बल्की…..

दशको से विवादित श्रीराम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवादित मामले पर आज सुप्रिम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए विवादित भूमि पर राम मंदिर बनाने का फैसला दिया है। साथ ही बाबरी मस्जिद के लिए अलग से 5 एकड़ जमीन केंद्र सरकार द्वारा दिए जाने का निर्णय भी सुप्रिम कोर्ट द्वारा दिया गया। कोर्ट के इस फैसले पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बाॅर्ड ने प्रेम काॅन्फ्रेस कर इस फैसले को विरोधाभासी बताया है।

करेंगे पुनर्विचार याचिका की मांग 

अयोध्या मामले पर आज सुप्रिम कोर्ट के 5 जजों की पीठ ने सर्वसहती से यह ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। कोर्ट के चिफ जस्टिस ने विवादित भूमि रामलला विराजमान को देने का फैसला दिया तथा सुन्नी वक्फ बोर्ड को अलग से 5 एकड़ जमीन मस्जिद बनाने के लिए देने हेतु केंद्र सरकार को आदेशित किया है। फैसले के बाद मुस्लिम पक्ष ने इस मामले पर प्रेस वार्ता करते हुए अपना पक्ष रखा है। कोर्ट के इस फैसले के बाद सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकिल जफरयाल जिलानी ने प्रेसवार्ता में कहा की हम मस्जिद किसी को दे नही सकते, मस्जिद को हटाया नहीं जा सकता है। हम कोर्ट के इस फैसले का सम्मान करते है। लेकिन सवाल 5 एकड़ जमीन का नही है। अयोध्या मामले का यह फैसला विरोधाभासी है। उन्होंने यह भी कहा की हम कोर्ट के जजमेंट की पूरी काॅपी पढ़ने के बाद पुनर्विचार याचिका की मांग करेंगे।

Leave a Comment