सऊदी अरब में अब छात्रों को पढ़ाई जाएगी रामायण-महाभारत, भारत की संस्कृति और इतिहास की होगी पढ़ाई शुरू

सऊदी अरब में अब छात्रों को रामायण और महाभारत भी पढाया जायेगा। दरअसल, सऊदी अरब में नए पाठ्यक्रम में रामायण और महाभारत को शामिल किया है। जानकारी के अनुसार, सऊदी अरब में शिक्षा क्षेत्र के लिए प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने विज़न 2030 के तहत अन्य देशों के इतिहास और संस्कृति के अध्ययन को जरूरी बताया है। वहीं अब सऊदी अरब में छात्रों को रामायण और महाभारत पढ़ाया जाएगा।

वहीं सऊदी अरब में छात्रों को रामायण और महाभारत पढ़ने को लेकर कहा गया है कि ये अध्ययन विश्व स्तर पर महत्वपूर्ण भारतीय संस्कृति जैसे योग, इतिहास और आयुर्वेद पर ध्यान केंद्रित करेगा। वहीं इस बीच, नए विज़न 2030 में अंग्रेजी भाषा को भी अनिवार्य कर दिया गया है।

इसी के साथ सऊदी के यूजर्स में से नूफ़-अल-मारवाई नामक ट्विटर यूजर द्वारा एक स्क्रीनशॉट साझा करके यह बताया गया है। उन्होंने लिखा, सऊदी अरब का नया विज़न -2030 और सिलेबस एक ऐसा भविष्य बनाने में मदद करेगा जो समावेशी, उदार और सहिष्णु हो।

वहीं सामाजिक अध्ययन की पुस्तक का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए उन्‍होंने लिखा कि आज मेरे बेटे की स्कूल परीक्षा के सिलेबस में हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, रामायण, कर्म, महाभारत और धर्म की अवधारणाएं और इतिहास शामिल हैं। मुझे उसके अध्ययन में मदद करने में मज़ा आया।

hanuman jayanti remedies zodiac sign

सऊदी के पाठ्यक्रम में कहा गया है कि इसके जरिये देश शिक्षित और कुशल कार्यबल का निर्माण करके वैश्विक अर्थव्यवस्था की प्रतिस्पर्धा में शामिल होगा। वहीं अलग-अलग देशों और लोगों के बीच सांस्कृतिक संवादों का आदान-प्रदान वैश्विक शांति और मानव कल्याण में सहायक है। इसीलिए यहां अंग्रेजी को भी व‍िशेषतौर पर शामिल करने पर जो दिया गया है।

सऊदी अरब में अंग्रेजी भाषा भी अनिवार्य

चौंकाने वाली बात यह है कि सऊदी अरब में नए विजन 2030 के तहत अंग्रेजी भाषा को भी अनिवार्य कर दिया गया है। इस बात की जानकारी सऊदी अरब के यूजर्स में से नूफ-अल-मारवाई नाम के ट्विटर यूजन ने एक स्क्रीनशॉट शेयर करके इसकी जानकारी दी। यूजर ने लिखा कि सऊदी अरब का नया विजन 2030 के तहत पाठ्यक्रम में किया गया बदलाव एक ऐसे भविष्य के निर्माण में सहायक होगा, जो समावेशी, उदार और सहिष्णु हो। यही नहीं यूजर ने सोशल स्टडीज की किताब का स्क्रीनशॉन शेयर करते हुए लिखा किम मेरे बेटे की स्कूल परीक्षा के पाठ्यक्रम में महाभारत, रामायण, कर्म, बौद्ध धर्म, हिंदू धर्म और धर्म से जुड़ी अवधारणाएं शामिल हैं। जिसका अध्ययन करने में मुझे काफी आनंद मिला है।

मानव कल्याण में सहायता मिलेगी

सऊदी अरब के पाठ्यक्रम में यह भी कहा गया कि शिक्षा में हुए इस बदलाव के माध्यम से देश शिक्षित और कुशल कार्यबल का निर्माण कर वैश्विक अर्थव्यवस्था की प्रतिस्पर्धा में आगे निकल जाएगा। जिसके साथ अन्य देशों और लोगों के बीच सांस्कृतिक संवादों के माध्यम से मानव कल्याण में सहायता मिलेगी। यही वजह है कि पाठ्यक्रम में अंग्रेजी भाषा को अनिवार्य कर दिया गया है।

Leave a Comment