जानिये आखिर कौन है उमंग सिंघार जो इन दिनो मध्यप्रदेश की राजनीती में सुर्खियों में बने है

उमंग सिंघार गंधवानी विधानसभा के विधायक तथा कमलाथ सरकार के वन मंत्री है। उमंग सिंघार मध्य प्रदेश के धार जिले की गंधवानी विधानसभा के एक छोटे से गांव बारिया में 23 जनवरी 1974 में जन्मे एवं स्नातक की पढ़ाई कर 1990 में युवा कांग्रेस में आकर ऐसे छाएं की आज वे मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार में वन मंत्री है। उमंग सिंघार के पिता स्व. दयाराम सिंगार न्यायाधीश थे। गंधवानी विधानसभा से लगातार तीन बार कांग्रेस के विधायक रहें उमंग सिंघार को कमलनाथ सरकार में वन मंत्री बनाया गया है। उमंग सिंघार इन दिना काफी चर्चा में है। गंधवानी विधानभा सहीत धार जिला एवं प्रदेश भर में उनके चाहने वालो की संख्या का आंकलन करना मुश्किल है। आपको बता दे मध्यप्रदेश की पूर्व उप मुख्यमंत्री स्वर्गीय जमना देवी के भतीजे है। जो अपनी बुआ के नक़्शे कदम पर चलकर राजनीती में एक कद्दावर नेता बने है। उमंग सिंघार पूर्व राष्ट्रिय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की टीम में अहम भूमिका निभाने वाले नेता है।

क्यो आए चर्चा में – वन मंत्री उमंग सिंघार की जमीनी पकड़ जबरदस्त है। वे अपने हर कार्यकर्ता को सीधे नाम से ही जानते है। विगत दिनो कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर दिए एक बयान को लेकर वे काफी चर्चा में आ गए है। उमंग सिंघार के समर्थन में खुद कांग्रेस के कद्दावर नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी उतर गए है। दरअसल उमंग सिंघार ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर ब्लैकमेलर नंबर वन, अवैध उत्खनन, शराब तस्करी जैसे गंभीर आरोप लगाते हुए कहां था कि पर्दे के पिछे से अपने लोगो बिठाकर दिग्विजय सिंह सरकार चला रहें है। सिंघार के इस बयान के बाद मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार में तनातनी मची हुई है। कई जगह दिग्विजय समर्थको ने उमंग सिंघार के पुतले भी जलाए है। वन मंत्री सिंघार के समर्थन में सिंधिया भी उतर आए है। राजनितिक पंडित इस पुरे विवाद का कारण मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी को बता रहें है। आपको बता दे कि उमंग सिंघार की बुआ यानी की पूर्व उप मुख्यमंत्री स्व. जमना देवी की भी दिग्विजय सिंह से अंदरूनी खिचातान चलती रहती थी।

Leave a Comment